भारतीय लड़कियां चीनी लड़कों से शादी क्यों नहीं करतीं

डेस्क। भारत के पड़ोसी देश चीन में आजकल एक दिलचस्प बहस छिड़ी है। सोशल मीडिया पर लोग इस मुद्दे को उठा रहे हैं। बहस का विषय है -हिंदुस्तानी लड़कियां चीनी लड़कों से शादी क्यों नहीं करतीं।

चीन में इस मुद्दे को सबसे पहले यहां कि एक स्थानीय वेबसाइट झिहू ने उछाला था। वेबसाइट के इस सवाल पर चीनी युवा अपने हिसाब से अलग अलग जवाब दे रहे हैं। तक़रीबन 12 लाख लोग इस पर अपनी राय दे चुके हैं।

अब बात करें दोनों देशों के लिंगानुपात की तो मामला काफी पेचीदा नज़र आता है। चीन में भारत से जनसंख्या के लिहाज से आगे है। लेकिन चीन में महिलाओं के मुकाबले 34 लाख पुरूष अधिक हैं। जबकि भारत में महिलाओं के मुकाबले 37 लाख पुरूष अधिक हैं।

जहां भारत में दुल्हन के माँ बाप को लड़के के परिवार को दहेज़ में गहने और अन्य कीमती सामान देना पड़ता है। वहीं चीन में इससे उलट दुल्हन को क़ीमती सामन लड़के के परिवार द्वारा भेंट देने का रिवाज़ है। वेबसाइट की माने तो यहां सगाई में लड़की को एक लाख युआन यानी क़रीब दस लाख रूपए उपहार के तौर पर दिए जाते हैं। जबकि भारत में किसी किसान की यह 10 की कमाई है।

वहीं एक वजह यह भी है कि चीन के गांव भारत के गांवों से काफी बेहतर है। शहरों के बात करें तो यह और कई गुना बढ़ जाता है। दूसरी तरफ चीनी मर्द वियतनाम, बर्मा और यूक्रेन की लड़कियां से शादी कर रहे हैं लेकिन भारतीय लड़कियों से नहीं।

वेबसाइट पर कुछ लोगों ने काफी दिलचस्प जवाब दिए है। एक यूजर ने लिखा कि असल ज़िंदगी में भारतीय लड़कियों और चीनी लड़कों की मुलाकात ही नहीं होती है। यूजर का कहना है कि भारतीय पुरूष चीन और हॉन्ग कॉन्ग में काम करते हैं लेकिन वहाँ भारतीय महिलाओं की संख्या न के बराबर है। इसके उलट कई चीनी मर्द अफ्रीका में काम करते हैं। इस वजह से अफ़्रीकी लड़कियां चीनी लड़कों से शादी करते हैं।

वहीं एक यूजर ने लिखा कि चीनी मर्दों की तुलना में भारतीय मर्द काफी स्मार्ट होते हैं। इस वजह से भारतीय लड़कियों को चीनी मर्द ख़ास अट्रेक्ट नहीं करते हैं। वहीं कुछ लोगों का कहना है भारतीय अपनी बेटियों की शादी चीनी मर्दों की तुलना में गोरे लोगों से करवाना ज्यादा पसंद करते हैं।

Leave a Reply

Your e-mail address will not be published. Required fields are marked *